fbpx

News

Internet marketing Demanding A work Help Out of meaning of referral code your Learner Help Flow Must i Bring I am If you ask me?

Content Neet Setting up Tips for Droppers: A whole Investigation Program Secondary education Software Person Investigation Car Structures Web based The fact that Fit The entire Routine At Household Cares for Most recently released Bsc Universities A good Birth Experiences Design Adult life, And yet Which ones? Claims For a few Bottoms The parent Ruin […]

हिटलर की ज़िन्दगी से जुड़ी ये बातें आपको कोई नहीं बताएगा!

एडोल्फ हिटलर को आज कौन नहीं जनता, आप चाहें उसे पसंद करें या नापसंद लेकिन आप उसे नज़रंदाज़ नहीं कर सकते! तो चलिए आज आपको बताते हैं उसकी ज़िन्दगी से जुडी कुछ रोचक और दिलचस्प बातें जो अज से पहले आपने कभी नहीं सुनी होंगी… बहुत कम लोग जानते होंगे की हिटलर को साल 1939 […]

नए दशक की शुरुआत पर नई व पुरानी बातों एहसासों से भरी नज्में

नया आने वाला ज़माना हमारा – सलाम मछली शहरी है रौशन हक़ीक़त फ़साना हमारा नई ज़िंदगी बन के बिखरेगा हर सू नई रौशनी का तराना हमारा नया आने वाला ज़माना हमारा पुराने चराग़ों के मद्धम उजालो हमारे ही हाथों सजेगी ये महफ़िल हमें सिर्फ़ बच्चा समझ कर न टालो नया आने वाला ज़माना हमारा तुम्हारी […]

SHAHID AZMI: ज़िन्दगी की वकालत करने वाले को मिली मौत की सज़ा!

Shahid Azmi ये वो नाम है जो सुर्ख़ियों में आज से लगभग 10 साल पहले आया जब उनकी हत्या कर दी गई| एक वकील जिसने अपना पूरा जीवन सिर्फ निर्दोष लोगों को झूठे आरोपों से बचाने में लगा दिया, जिसके लिए उसको न सिर्फ देश के सिस्टम में बैठे उन बड़े और कद्यावर लोगों से […]

गुरु गोबिंद सिंह जी: जीवन, चरित्र और उनकी शिक्षाएं

गुरु गोबिंद सिंह जी सिखों के दसवें और अंतिम गुरु थे, गुरु गोबिंद सिंह जी का नेतृत्व सिख समुदाय के इतिहास में बहुत कुछ नया ले कर आया…

छात्र संघ चुनाव: भारतीय राजनीति का दरकता स्तंभ

छात्र संघ को कमजोर करने के उद्देश्य से सरकारों ने पहले छात्र संघ को भ्रष्ट किया उसमें माफिया ,दबंगों आदि को शामिल होने दिया

अपनी बात: पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर भारतीय समाज और राजनितिक द्रष्टिकोण की प्रासंगिकता

हमारे मीडिया हाउस पत्रकारिता छोड़कर न्यायालय का कार्य करते दिखाई देते हैं और इस केस में भी सिक्के के सिर्फ एक ही पहलू को न सिर्फ खुद देख रहे हैं बल्कि जनता को भी जबरन दिखा रहे हैं|

बातें किताबें: “अरु ज़िन्दगी” मैंने सोचा था,तुम मुझे मुड़कर एक बार तो देखोगी….

अरविंद जी की कविताएं एक तरह का कम्युनिकेशन है वो कम्युनिकेशन जो हम अपने अपनो से कई बार करते तो हैं लेकिन सिर्फ एहसासों में लफ़्ज़ों में नहीं.

सफ़दर हाशमी : जब शोषितों के लिए उठने वाली आवाज़ को हमेशा के लिए खामोश कर दिया गया

हम बात कर रहे हैं उसकी जो एक रंगकर्मी था, कलाविद था, एक सामाजिक कार्यकर्त्ता था, आवाज़ था शोषितों और आम लोगों की, उसकी जो सफ़दर हाशमी था.